Contact for Advertisement 9650503773


उन्नाव में वायरल बुख़ार का प्रकोप दिनों व दिन बढ़ा, वायरल बुखार से लोग लगातार हो रहे बीमार 
 

वायरल बुखार से लोग लगातार हो रहे बीमार  - Photo by : NCR Samachar

उत्तर प्रदेश   Published by: Faiz Ahmad , Date: 01/11/2022 03:07:44 pm Share:
  • उत्तर प्रदेश
  • Published by: Faiz Ahmad ,
  • Date:
  • 01/11/2022 03:07:44 pm
Share:

संक्षेप

उत्तर प्रदेश उन्नाव में वायरल बुख़ार का प्रकोप दिनों व दिन बढ़ता जा रहा है। जिससे जिला अस्पताल के अलावा अन्य अस्पतालों के हाल बुरे हो गये हैं। जिला अस्पताल में एक बेड पर दो-दो मरीज़ों का इलाज चल रहा है।

विस्तार

उत्तर प्रदेश उन्नाव में वायरल बुख़ार का प्रकोप दिनों व दिन बढ़ता जा रहा है। जिससे जिला अस्पताल के अलावा अन्य अस्पतालों के हाल बुरे हो गये हैं। जिला अस्पताल में एक बेड पर दो-दो मरीज़ों का इलाज चल रहा है। इसके साथ ही जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भी ओपीडी की संख्या बढ़ती जा रही है, जिसमें अधिकतर वायरल बुखार के मरीज पहुँच रहे हैं। जिला अस्पताल से लेकर प्राइवेट अस्पताल में बुख़ार के मरीजों की लाइन लगी है। एमरजेंसी व अन्य वार्डों में मरीज ही मरीज़ दिखाई दे रहे हैं। 

बुख़ार की बीमारी से जिला अस्पताल के एमरजेंसी वार्ड की स्थिति बहुत ख़राब है। यहाँ मरीज़ों की बढ़ती हुई संख्या के चलते बेड कम पड़ गये हैं। एक बेड पर दो-दो मरीज़ों का इलाज किया जा रहा है। इससे मरीज़ो को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। इसके साथ उनके तीमारदारों को भी परेशानी हो रही है। मरीज़ों की बढ़ रही संख्या के कारण कोरोना के दिन लोगों को याद आ रहे हैं। कोरोना के समय भी यही नज़ारा देखने को मिलता था। उस समय भी अस्पतालों में मरीज़ों को बेड नहीं मिल रहे थे।

जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों के परिजनों ने डॉक्टरों पर इलाज के नाम पर लापरवाही करने के आरोप लगाये हैं। उनका कहना है कि डॉक्टर ग्लूकोस की बोतल चढ़ाकर चले जाते हैं। इसके बाद मरीज़ों को देखने तक नही आ रहे हैं। जिससे उनके मरीज़ों की हालत बिगड़ रही है। मौसम में उतार-चढ़ाव होने से वायरल, सर्दी, ज़ुखाम, पेट, चर्म रोगों के अलावा सर में दर्द, बदन दर्द और स्किन रोगों की संख्या बढ़ी है। कई ऐसे मरीज़ भी आये हैं, जिनकी जाँच में प्लेटलेट्स कम होने से टाइफाइड, चिकनगुनिया और डेंगू की सम्भावनाएं भी देखी जा रही हैं। 

मधु होम्यो केयर के डॉक्टर निखिल सिंह चौहान ने बताया कि बदलते मौसम में पानी उबालकर पियें, मच्छरदानी का प्रयोग करें, बांसी भोजन न करें, बाहर की तली हुई चीज़ों का सेवन न करें, खुले आसमान में न सोएं और फ्रिज के पानी न पिए। सिकन्दरपुर करण के चिकित्सा प्रभारी अधिकारी डॉ. आशुतोष वाष्र्णेय ने बताया कि बुख़ार, सर्दी और ज़ुखाम होने पर तुरन्त पास के स्वास्थ्य केन्द्र जाकर डॉ. से सलाह लें। बुख़ार आने पर पैरासिटामॉल, एंटीबैटिक दवाओं का प्रयोग करें और लगातार एक सप्ताह तक इन दवाओं का सेवन करें। जिससे वायरल से बचा जा सके।